कबाड़ी के यहां से मिला मैट्रिक परीक्षा की कॉपियां

KKN Live न्यूज वेबसाइट पर सभी खबरो का त्वरित अपडेट पढ़ने के लिए प्लेस्टोर से KKN Live का एप डाउनलोड कर सकतें हैं…

नवादा। बिहार में शिक्षा व्यवस्था का क्या हाल है? इसकी बानगी नवादा में देखने को मिला। मैट्रिक की 42,400 कॉपी एक बकाड़ी के दुकान से बरामद होते ही महकमे में खलबली मच गई है।

दरअसल, नवादा जिले के एक आदेशपाल ने मात्र साढ़े आठ हजार रुपये लेकर मैट्रिक की 42,400 कॉपी को कबाड़ी के हाथो बेच दिया था। इसका खुलासा एआईटी की तफ्तीश के बाद शनिवार को किया गया। टीम ने शहर के हजियापुर के कबाड़ व्यवसायी व एक ऑटो चालक को गिरफ्तार कर लिया है।
अब एसआईटी की टीम ने सीवान व गोपालगंज के कबाड़ बीनने-खरीदने वाले 300 लोगों को चिह्नित कर गायब कॉपियां बरामद करने के लिए छापेमारी व पूछताछ कर रही है। टीम को आशंका है कि कबाड़ से कॉपी खरीदने के बाद उसे दूसरे जिले या फिर राज्य से बाहर बड़े कारोबारियों के हाथों बेच दिया गया होगा। स्मरण रहें कि आदेशपाल छठू सिंह ने स्कूल के स्ट्रांग रूम से कॉपियां निकालकर बेची थीं। खुलासा सीसीटीवी फुटेज के आधार पर हुआ।
ये है पूरा मामला
नवादा जिले की मैट्रिक की कॉपियों को मूल्यांकन के लिए एसएस बालिका प्लस टू स्कूल भेजा गया था। कॉपियों की जांच के बाद परीक्षार्थियों के प्राप्तांक की शीट बोर्ड को भेज दी गई। जब बिहार बोर्ड ने टॉपरों के वेरीफिकेशन के क्रम में कुछ छात्रों की कॉपियों की मांग की तो सोशल साइंस व विज्ञान की चार कॉपियां नहीं मिलीं। बाद में जांच में 215 बैग से 42400 से अधिक कॉपियां गायब पाई गईं। इस मामले में प्राचार्य ने आदेशपाल व अन्य के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई थी।

%d bloggers like this: