मीनापुर में नियोजन समिति पर कार्रवाई की उठी मांग

फर्जी पंचायत शिक्षक को बर्खाश्त करने का कड़ा निर्देश जारी

मीनापुर के पंचायतो में चिह्नित फर्जी शिक्षक इस प्रकार है। नंदना- 09, पैगम्बरपुर- 08, कोइली- 05, मझौलिया- 03, अलीनेउरा- 07, टेंगरारी- 07, महदेइयां- 04 और मदारपुरकर्ण- 03 फर्जी शिक्षको की बर्खाश्तगी होनी है।

मुजफ्फरपुर। मीनापुर में 98 फर्जी नियोजित प्रखंड शिक्षकों के बर्खास्तगी के बाद अब बाकी बचे 46 पंचायत शिक्षक व फर्जी बहाली के लिए जिम्मेदार नियोजन इकाई पर कार्रवाई की मांग उठने लगी है। इसके अलावा 366 दागी शिक्षकों की जांच को शीघ्र पूरा करने के लिए अधिकारी पर दबाव बढ़ गया है। इस बीच बीडीओ संजय कुमार सिन्हा ने फर्जी चिह्नित पंचायत शिक्षकों की बर्खास्तगी की कारवाई को पूरा करने की जिम्मेदारी बीईओ को दी गई है। दूसरी ओर डीईओ ने पंचायत शिक्षक को शीघ्र बर्खाश्त करने का आदेश एक बार फिर से जारी कर दिया है।
पिछले तीन वर्षो में फर्जीवाड़े को लेकर सुर्खिया बटोर रहें मीनापुर में अब इसको लेकर नेताओं की गोलबंदी शुरू हो गयी है। पूर्व विधायक जनकधारी प्रसाद कुशवाहा ने फर्जीवाड़े पर कठोर कदम उठाने के लिए सर्वदलीय बैठक करने का प्रयास तेज कर दिया है। श्री कुशवाहा ने बताया कि शेष फर्जी शिक्षकों को बर्खास्त करने व इसके लिए दोषी नियोजन इकाई पर कारवाई की मांग को लेकर शीघ्र ही उनकी पार्टी आंदोलन करेगी। इस बीच जदयू के वरिष्ठ नेता व पंचायत समिति सदस्य शिवचन्द्र प्रसाद ने मंगलवार को बीडीओ से मिलकर फर्जी चिन्हित सभी 46 पंचायत शिक्षक को शीघ्र ही बर्खास्त करने की मांग की। उन्होंने कहा कि बर्खास्तगी में हीलाहवाली को जनता अब नहीं बर्दाश्त करेगी।
बर्खास्तगी के लिए निकल चुका है पत्र
फर्जी पंचायत शिक्षकों को बर्खास्त करने के लिए डीपीओ ने मीनापुर के बीडीओ को 24 घंटे का समय निर्धारित कर दिया है। डीपीओ के कड़े तेबर को देख फर्जीवाड़े के रैकेट चलाने वालो में हड़कंप मचा है। स्मरण रहें कि इससे पहले भी दो बार डीपीओ पत्र लिख चुके हैं। 27 जुलाई और 24 अक्टूबर को लिखे पत्र में अधिकारी ने फर्जी चिन्हित पंचायत शिक्षकों को बर्खास्त करने के लिए स्पष्ट आदेश दिया हुआ है।