आखिरकार नींद से जागा प्रशासन, एसकेएससीएच में लगे एसी और कूलर

हरकत में प्रशासन

बिहार के मुजफ्फरपुर में चमकी की कहर मीडिया की सुर्खियां बनने के बाद आखिरकार एसकेएमसीएच प्रशासन की नींद खुल गई है। वर्षों से जो काम नहीं हुए, उसे अब दो दिनों में पूरा कर लिया गया है। इसके लिए रोगी कल्याण समिति से भी झटपट राशि मिल गई। बुधवार को पीआईसीयू के साथ सामान्य शिशु वार्ड को चकाचक कर दिया गया। जनरल शिशु वार्ड दो में 16 कूलर और पीआईसीयू में तब्दील किये गए वार्ड एक में 16 एसी लगाये गए हैं। जगह-जगह दो दर्जन से अधिक डस्टबिन रखे गए हैं। सफाई के मद्देनजर पीआईसीयू में मरीज के साथ एक परिजन को जाने के नियम का कड़ाई से पालन होना शुरू हो गया है।

150 से अधिक मासूमो की गई जान

एईएस यानी चमकी बुखार से पिछले 19 दिनों में करीब 151 बच्चों की मौत के बाद एसकेएमसीएच प्रशासन हरकत में आ गई है। पांचों पीआईसीयू को बेहतर कर दिया गया है। पहले पीआईसीयू में परिजन जूता-चप्पल पहनकर घुस जाते थे। लेकिन, अब इस पर पूरी तरह से रोक लगा दी गई है। इस बारे में नर्सों को भी कड़ी हिदायत दी गई है। अब साफ-सफाई बेहतर ढंग से की जा रही है। इसके लिए नगर निगम से एक दर्जन सफाई कर्मियों को यहां अस्पताल में लगाया गया है। वहीं अस्पताल में कई जगहों पर साफ पानी की भी व्यवस्था की जा रही है। हालांकि, लाखों रुपये की खर्च पर लगाया गया वाटर रेफ्रिजरेटर पिछले कुछ ही दिनों से खराब पड़ा है।