पीएचईडी विभाग ने गोरीगामा से जांच के लिए लिया जल का नमूना

कार्यपालक अभियंता के आदेश पर शुरू हुआ जांच

कौशलेन्द्र झा

मुजफ्फरपुर। बिहार के मुजफ्फरपुर जिला अन्तर्गत कैंसर जोन बन चुका मीनापुर के गोरीगामा पंचायत के पेयजल की लैब में जांच की प्रक्रिया शुरू हो गई है। गुरुवार को पीएचईडी विभाग अन्तर्गत मुजफ्फरपुर के क्षेत्रीय जल अनुसंधान इकाई के अधीन कार्यरत चलंत जल जांच प्रयोगशाला के तीन सदस्सीय टीम ने गोरीगामा व टेंगराहां गांव के 34 पेयजल स्त्रोत से जल का नमूना संग्रह किया है।
पीएचईडी के कार्यपालक अभियंता प्रभात कुमार के आदेश पर गोरीगामा पहुंची टीम का नेतृत्व कर रहे लैब टेक्नीशियन अशिष कुमार यादव ने बताया कि जल के नमूना को लैब में ले जाकर इसमें मौजूद आर्सेनिक, आयरन, फ्लोराइट, पीएच व टीडीएस आदि की जांच की जायेगी। श्री यादव ने बताया कि तीन रोज के भीतर वह अपना रिपोर्ट कार्यपालक अभियंता को सौप देंगे। जल संग्रह करने आये टीम में पीएचईडी के उमाशंकर पटेल व रामसकल पासवान भी मौजूद थे।
इस मौके पर गांव के उपमुखिया उमाशंकर सिंह, पंसस बिगन मंडल, शिक्षक विवेक कुमार,सगीर अंसारी, बाल्मिकी सिंह, अरुण कुमार सिंह, मीणा देवी, इंदू देवी, रेणु कुमारी, श्याम कुमार, बिन्देश्वर साह, चन्देश्वर राम, धीरज कुमार सिंह, आंशुमन व दिनेश कुमार सिंह आदि मौजूद थे। बतातें चलें कि गोरीगामा व टेंगराहां में पिछले एक दशक के दौरान कैंसर से 31 लोगो की मौत होने व पांच अन्य के आज भी इस रोग के चपेट में आने के बाद गांववाले लम्बे समय से पेयजल की जांच करने की मांग कर रहे थे।