भारत रत्‍न, बोलने का लाइसेंस नही होता: रेणुका

हंगामे के कारण राज्‍यसभा में नहीं बोल पाए सचिन

नई दिल्‍ली। सचिन तेंडुलकर की आबाज हंगामे की भेंट चढ़ गई। वह खेल का अधिकार मुद्दे पर राज्यसभा में अपनी राय रखने वाले थे। अब इसको लेकर हंगामा मची है। प्रतिक्रियाओं का दौर थमने का नाम नहीं ले रहा है। आंध्रप्रदेश से कांग्रेस की राज्‍यसभा सदस्‍य और वरिष्‍ठ नेता रेणुका चौधरी के बयान ने इसे और हवा दे दी है। रेणुका चौधरी ने कहा कि भारत रत्‍न मिलने से क्‍या आपको बोलने का लाइसेंस मिल गया है?
बतातें चलें कि सचिन को कांग्रेस ने ही राज्‍यसभा में लाया है। वह गुरुवार को खेल का अधिकार मुद्दे पर अपना विचार रखने के लिए उठे थे। इस बीच ऊपरी सदन में सरकार पर हमलावर विपक्षी सदस्‍य हंगामा करने लगे थे। इस बीच, कांग्रेस सदस्‍य रेणुका चौधरी यह कहते हुए सुनी गईं कि भारत रत्‍न मिलने से क्‍या संसद में बोलने का लाइसेंस मिल जाता है।

राज्‍यसभा के सभापति वेंकैया नायडू के बार-बार आग्रह करने पर भी विपक्ष शांत होने तैयार नहीं था, लिहाजा राज्‍यसभा को स्‍थगित करना पड़ा था। ऐसे में सचिन को बोलने का मौका ही नहीं मिल पाया था। विपक्ष के इस रवैये की काफी आलोचना होने लगी। सपा सांसद जया बच्‍चन ने कांग्रेस को खरी-खोटी सुनाई। उन्‍होंने कहा, ‘सचिन तेंडुलकर ने भारत के लिए वैश्विक स्‍तर पर ख्‍याति अर्जित की है। यह बड़े ही शर्म की बात है कि उन्‍हें बोलने का मौका नहीं दिया गया।