मीनापुर में चिमनी कारोबारी को मारी गोली, मौत

मृतक के बड़े भाई से मांगा था दस लाख की रंगदारी

अजय कुमार

KKN न्यूज ब्योरो। बिहार के मुजफ्फरपुर जिला अन्तर्गत मीनापुर थाना में अपराध की घटनाओं में अचानक तेजी आ गयी है। तीन रोज के भीतर अपराधियों ने गोली मार कर इलाके के दो युवा कारोबारी को मौत की नींद सुला दिया है। रंगदारी नहीं देने पर बाइक सवार अपराधियों ने 1 जुलाई को शनिचरास्थान के एक चाय दुकान पर बैठे चिमनी कारोबारी अजय कुमार ‘30वर्ष’ को गोली मार कर मौत के घाट उतार दिया। इससे पहले  29 जून को गोली लगने से जख्मी हुए डुमरबाना गांव के राजा राय ‘20वर्ष’ की 30 जून की मध्य रात्रि में इलाज के दौरान मौत हो गई। तुर्की शनिचरा स्थान चौक पर चाय पी रहें तुर्की के चिमनी मालिक और आरजेडी नेता जगदीश साह के पुत्र अजय कुमार को बाइक सवार अपराधियों ने सुबह करीब 8 बजे में करीब से दो गोली मारी दी। गोली लगने से घायल हुए अजय को स्थानीय लोगो ने आनन फानन में इलाज के लिए अस्पताल की ओर जा ही रहे थे कि रास्ते में उसकी मौत हो गई।

रंगदारी नहीं देने पर हत्या, ग्रामीणो ने किया हंगामा

अजय के मौत की खबर पहुंचते ही ग्रामीणो का गुस्सा भड़क गया और गुस्साए लोगो ने शनिचरास्थान के समीप मीनापुर बेलसंड पथ पर टायर जला कर हंगामा करने लगे। इससे आवगमन बाधित हो गया। लोगो का कहना था कि एक महीने पहले ही मृतक के बड़े भाई विजय कुमार से अपराधी ने फोन पर 10 लाख रुपये की रंगदारी मांगी थी और नहीं देने पर जान से मार देने की धमकी भी दिया था। विजय ने इसकी सूचना मीनापुर पुलिस को दिया था। किंतु, पुलिस ने एफआईआर दर्ज नहीं की। बाद में गुस्साए लोग मीनापुर थाना पर पहुंच गए और यहां भी करीब एक घंटे तक बवाल काटा।

जांच में जुटे पुलिस अधिकारी

घटना की सूचना मिलते ही सीटी पुलिस अधीक्षक नीरज कुमार सिंह और आरक्षी उपाधिक्षक पूर्वी डॉ. गौरव पांडेय शनिचरास्थान पहुंच कर घटना की छानबीन में जुट गए है। मीनापुर के थाना अध्यक्ष धनंजय कुमार दल बल के साथ वहां पहले से ही मौजूद थे। पुलिस के द्वारा हत्यारे की गिरफ्तारी के लिए छापामारी शुरू कर देने के बाद बेलसंड पथ पर करीब दो घंटा तक हंगामा कर रहे लोग हत्यारे की गिरफ्तारी की मांग को लेकर अब मीनापुर थाना पर जमा होने लगें हैं। इस बीच थाना अध्यक्ष धनंजय कुमार ने बताया कि पुलिस ने मृतक के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए एसकेएमसीएच भेज दिया है। पुलिस ने तीन लोगो को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू कर दी है।

अपराधियों के निशाने पर है कारोबारी

तुर्की के कई कारोबारी अपराधी के निशाने पर है। नाम नहीं बताने की शर्त पर कई लोगो ने बताया कि अपराधियों ने तुर्की के एक कपड़ा व्यवसायी सहित कई अन्य कारोबारी से रंगदारी की मांग की हुई है। अजय को गोली लगने के बाद से यहां के कारोबारी दहशत में है। इस बीच अजय को गोली मारने वालों की पहचान हो गई है और लोगो का कहना है कि यह घटना रंगदारी विवाद से जुड़ा हुआ है।

मृतक का अंतिम बयान

जिसने मेरे भाई से रंगदारी मांगा था, उसी ने मुझे गोली मारी है…। मौत की नींद सोने से पहले अजय के मुंह से निकला यह अंतिम अल्फाज घटना के कारणो का खुलाशा करने के लिए प्रयाप्त है। अजय ने यह बात एसएसपी से कहीं है। चिमनी मालिक और राजद नेता जगदीश गुप्ता ने बताया कि अस्पताल जाने की राह में उन्होंने ही अपने मोबाइल पर अजय को एसएसपी से बात कराई है। सोमवार को दोपहर बाद पोस्टमार्टम के बाद अजय का शव तुर्की पहुंचते ही गांव में कोहराम मच गया है। इस बीच पुलिस ने संदेह के आधार पर तीन लोगो को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू कर दी है। हालांकि पुलिस के अधिकारी इस संबंध में अभी कुछ भी बताने को तैयार नहीं है। बताया जा रहा है कि स्वयं एसएसपी पूरे घटनाक्रम पर नजर बनाएं हुएं है।

सीतामढ़ी के अपराधी ने मांगी थीं रंगदारी

स्मरण रहें कि सीतामढ़ी जिला अन्तर्गत महिंदबारा थाना के राकेश राय ने पिछले महीने ही अजय कुमार के बड़े भाई विजय कुमार से 10 लाख रुपये की रंगदारी मांगी थी और नहीं देने पर जान से मार देने की धमकी दिया था। परिजनो ने पुलिस को इसकी सूचना भी दी थी। किंतु,  पुलिस के अधिकारी एफआईआर दर्ज करना जरुरी नहीं समझे। नतीजा, अजय को अपनी जान देकर आज इसका खामियाजा भुगतना पड़ा। गौर करने वाली बात ये है कि अपराधी ने तुर्की के एक कपड़ा व्यवसायी सहित कई अन्य कारोबारी से भी रंगदारी मांगी हुई है। इस घटना के बाद तुर्की के कारोबारियों में दहशत है।

दुकान में पहले से बैठा हुआ था लाइनर 

शनिचरास्थान पर चंदन के चाय दुकान पर लक्ष्मण गिरी के साथ चाय पीने के लिए अजय कुमार अपने बाइक से पहुचा और चाय का आर्डर देकर ईट कारोबार की बातचीत करने लगा। इस बीच बलुआ की ओर से बाइक सवार तीन बदमाश वहां पहुंच गए और अजय को खोजने लगे। वहां धोती-कुर्ता पहन कर पहले से बैठा एक अनजान अधेड़ ने अजय की ओर इशारा कर दिया। लोगो ने बताया कि अजय के पहुंचने से थोड़ी देर पहले ही वह अधेड़ दुकान में आया था और घटना होने के बाद भीड़ की आर लेकर वह किधर निकल गया। किसी ने नहीं देखा। घटना के प्रत्यक्षदशी रहे लक्ष्मण गिरी ने सीटी एसपी नीरज कुमार और डीएसपी पूर्वी डॉ. गौरव पांडेय को पूरी बात बता दी है। पुलिस अधिकारी का अनुमान है कि वह अधेड़ उम्र व्यक्ति इस घटना में लाइनर की भूमिका में रहा होगा।

दोस्त ने की बचाने की कोशिश

अजय के साथ दुकान में बैठे लक्ष्मण गिरी ने अपराधी से अजय को बचाने की पूरी कोशिश की। इस बीच अपराधी ने अपना पिस्टल निकाल कर फायर किया। किंतु, गोली अजय को नहीं लगा और वह दुकान से निकल कर जैसे ही भागने का प्रयास किया। बाहर खड़े दूसरे अपराधी ने बहुत ही करीब से अजय को गोली मार दी। अजय कुछ समझ पाता इससे पहले तीसरे अपराधी ने एक और गोली मार दी। दो गोली लगते ही खून से लथपथ अजय समीप के ही दूसरे दुकान में गिर गया और दर्द से कराहने लगा। इस बीच तीनो अपराधी आराम से अपना बाइक स्टाट करके, जिधर से आया था उधर ही चला गया। लक्ष्मण गिरी कहतें है कि जब अपराधियों ने गोली चलाना शुरू कर दिया तो उन्होंने अपराधियों ने विनती भी की। कहा कि तुम इसका जान बक्स दो। रुपये हम दे देंगे। इस पर एक अपराधी ने कहा कि अब बहुत बिलम्ब हो चुका है। यह काम पहले करना चाहिए था।

मीनापुर और सिवाईपट्टी में अपराधियों का खौफ

मीनापुर और सिवाईपट्टी थाना क्षेत्र में पिछले दो महीने के भीतर अचानक अपराधिक घटनाओं में तेजी आ जाने से लोग दहशत में है। पुलिस रिकार्ड पर नजर डालें तो दो महीने के भीतर लूट की एक दर्जन घटना और तीन रोज के भीतर गोली मार कर हत्या करने की दो घटना के बाद इलाके में दहशत है। पुलिस अधिकारी जांच के नाम पर खानापूर्ति से आगे नहीं बढ़ पा रहें हैं। नतीजा, यहां लोग अपने घरो से निकलने में भी अब डरने लगें हैं।

राजा के मौत की गुथ्थी सुलझने से पहले सज गई अजय की चिता

दो रोज पहले 29 जून को डुमरबाना गांव के सीमेंट कारोबारी राजा राय को गोली मारने वाले अपराधी तक पहुंचने का पुलिस अभी प्रयास कर ही रही थीं कि 1 जुलाई की सुबह ईट कारोबारी अजय कुमार को अपराधियों ने गोली मार कर मौत की नींद सुला दी। इससे पहले इलाज के दौरान रविवार की देर रात को राजा की मौत होने के बाद सोमवार की सुबह पोस्टमार्टम के बाद उसका शव डुमरबाना पहुंचते ही गांव में कोहराम मच गया है। इधर, दोपहर बाद अजय का शव पहुंचते ही तुर्की में कोहराम गया। बाइक सवार अपराधियों ने गोली मार कर तीन रोज के भीतर दो कारोबारी को मौत की घाट उतार कर मीनापुर में दहशत फैला दिया है।

दो रोज में छह लूट

मीनापुर और सिवाईपट्टी थाना में अपराधियों का मनोबल किस कदर बढ़ा हुआ है? इसका बानगी 2 मई और 21 मई को देखने को मिला। अपराधियों ने 21 मई को एक साथ तीन घटना को अंजाम देकर पुलिस को बैकफुट पर खड़ा कर दिया। मीनापुर थाना के शाहपुर के समीप दिन के डेढ़ बजे में बेखौफ अपराधियों ने बाइक लूटने में विफल होने पर कोआही के मो. अकबर को चाकू मार कर जख्मी कर दिया। पुलिस मामले की जांच में जुटी ही थीं कि अपराधियों ने शाम होने से पहले ही सिवाईपट्टी थाना के कड़चौलिया के समीप मोबाइल कारोबारी सिकन्दरपुर के पुनीत सिंह से पिस्तौल के बल पर 30 हजार रुपये और 27 पीस मोबाइल लूट कर उनके बाइक के टायर में चाकू मार कर पंचर कर दिया। पुलिस कुछ समझ पाती इससे पहले टेंगरारी के सुन्दर देवी के समीप राजेपुर थाना के झिटकहियां निवासी पंकज कुमार से 10 हजार रुपये नकद और मोबाइल की लूट हो गई। इसी प्रकार इससे पहले 2 मई को भी अपराधियों ने एक ही रोज में लूट की तीन घटना को अंजाम दिया था। मीनापुर थाना के खुटौना के समीप बाइक लूटने के दौरान जीरोमाइल के विजय कुमार साह को गोली मार कर जख्मी कर दिया। मीनापुर पुलिस गोलीकांड की छानबीन में जुटी ही थीं कि अपराधियों ने मीनापुर टेंगराहां सड़क पर दिन के ढ़ाई बजे में गोरीगामा के रामकुमार सिंह को चाकू मार कर बुरी तरीके से जख्मी कर दिया। इस बीच सिवाईपट्टी थाना के  टेंगरारी सुन्दर देवी के समीप पांच नकाबपोश अपराधियो ने कांटी थाना के बहादुर निवासी टेन्ट कारोबारी चूल्हाई सहनी और टेंगरारी गांव के मवेशी डाक्टर लक्ष्मण पंडित को चाकू मारकर जख्मी कर दिया।

बैंक कर्मी भी रहे निशाने पर

इस बीच मीनापुर थाना के नेहालपुर गांव के समीप 25 जून को दो बदमाशो ने पिस्तौल के बल पर बैंक ऑफ इंडिया नरमा शाखा के कैशियर भूषण कुमार और कलर्क जिपू कुमार से 15 हजार रुपये नकद और मोबाइल लूट लिए। दोनो कर्मचारी बैंक से अपने घर लौट रहे थे। इससे पहले 20 मई को सिवाईपट्टी थाना के कड़चौलिया पेट्रौल पंप के समीप अपराधियों ने बेला के एक कारोबारी संजय कुमार से 15 हजार रुपये नकद और मोबाइल लूट लिया। इसी प्रकार 17 मई को सिवाईपट्टी के टेंगरारी सुन्दर देवी के समीप पिस्तौल के बल पर अपराधियों ने कांटी के माधोपुर मठियां निवासी गोपी कुमार से बाइक, मोबाइल और 5 हजार रुपये लूट लिए।

एसएसपी को पिता ने सुनाई दास्तान

मुजफ्फरपुर के एसएसपी मनोज कुमार ने तुर्की पहुंच कर ईट कारोबारी मृतक अजय कुमार के परिजनो से मुलाकात की और उनसे घटना के संबंध में विस्तार से जानकारी ली है। इससे पहले मृतक के पिता जगदीश साह ने एसएसपी से तुर्की में पुलिस चेकपोस्ट बनाने और नियमित गश्ती करने की मांग की है। इस दौरान एसएसपी ने अपराधियों को शीघ्र गिरफ्तार करने का परिजनो को भरोसा दिया इसके बाद देर शाम को परिजनो ने अजय के अंतिम संस्कार की तैयारी शुरू कर दी।

हत्या की एफआईआर दर्ज

मीनापुर थाना में तुर्की के ईटभट्ठा कारोबारी अजय कुमार को रंगदारी नहीं देने की वजह से गोली मार कर हत्या कर देने का एफआईआर दर्ज हो गया है। मृतक के बड़े भाई विजय कुमार के बयान पर पुलिस ने महिंदवारा थाना के बतरौली गांव के राकेश राय, मीनापुर थाना के टेढ़ा गांव के दीनबंधू राय, तुर्की डांकबंगला गांव के माया शंकर राय और तरियानी थाना के शरीफनगर गांव के गुड्डू कुमार को नामजद किया है और कुछ अज्ञात पर एफआईआर दर्ज कर लिया है।

रंगदारी को बताया घटना का कारण

विजय कुमार ने पुलिस को बताया कि इसी वर्ष अप्रैल महीने में राकेश ने फोन करके 10 लाख रुपये की रंगदारी मांगी थी और नहीं देने पर जान से मार देने की धमकी दिया था। अपराधी का कहना था कि जिस प्रकार से रामस्वार्थ राय के मुंशी की हत्या किया। उसी प्रकार से तुम्हारा भी हत्या कर देंगे। विजय ने पुलिस को बताया कि तीन बाइक से छह अपराधी बलुआ की ओर से शनिचरास्थान पहुंचे और चाय की दुकान पर बैठे अजय कुमार को गोली मार कर हत्या कर दी।

जन प्रतिनिधियों ने बढते अपराध पर जताई चिंता

घटना की सूचना मिलते ही राजद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. रघुवंश प्रसाद सिंह, विधायक मुन्ना यादव और जिपा रघुनाथ राय ने परिजनो से मिल कर उनको ढ़ाढ़स बंधाया है और बढ़ते अपराध पर चिंता प्रकट की है। इससे पहले पूर्व मंत्री हिन्दकेशरी यादव, बीजेपी किसान मोर्चा के प्रदेश उपाध्यक्ष अजय कुमार, पूर्व जिला पार्षद मिथलेश यादव, विनोद शर्मा, रामबाबू यादव, जदयू के प्रखंड अध्यक्ष पंकज किशोर पप्पू, सरपंच मो. तौहीद आजाद, पैक्स अध्यक्ष मनोज शाही ने घटना पर शोक प्रकट करते हुए अपराधी के गिरफ्तारी की मांग की है।

कॉग्रेस ने की शोक सभा

प्रखंड की मानिकपुर गांव में प्रखंड कांग्रेस कमेटी ने शोकसभा करके तुर्की के अजय कुमार की हत्या पर चिंता प्रकट करते हुए अपराधी के शीघ्र गिरफ्तारी की मांग की है। सुलतान अहमद खां की अध्यक्षता में आयोजित शोकसभा के मौके पर अजीत कुमार सिंहा, वीरेंद्र कुमार सिंह, अब्दुल सत्तार अंसारी सहित बड़ी संख्या में कॉग्रेसी नेता मौजूद थे।