संदिग्ध अवस्था में मिला अधेड़ का शव, हत्या की आशंका

बेटी व पोती को छठ का प्रसाद देकर घर लौट रहा था रामधारी

पुलिस ने घटनास्थल से मृतक का साइकिल व चप्पल बरामद किया

मुजफ्फरपुर। मीनापुर थाना के भराव मन के गहरे पानी से शनिवार की सुबह एक अधेड़ की संदिग्ध अवस्था में लाश बरामद होते ही इलाके में सनसनी फैल गई। मृतक की पहचान 55 वर्षीय रामधारी सहनी के रूप में हो गया है। वह चैनपुर गांव का रहने वाला है। रामधारी सहनी का दोनो हाथ केला के झल्ला से बांधा हुआ था और उसके वायां आंख व सिर के पिछे चाकू से हमला होने के निशान मिलें हैं। हालांकि, खबर लिखे जाने तक इसका एफआईआर दर्ज नही हुआ था।
घटना की सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची मीनापुर पुलिस ने लाश को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए एसकेएमसीएच भेज दिया है। पुलिस ने मौके से मृतक का साइकिल और चप्पल बरामद कर लिया है। मृतक के पुत्र वीरबहादुर सहनी ने हत्या की आशंका जाहिर करते हुए पुलिस से जांच की मांग की है। थाना अध्यक्ष सोना प्रसाद सिंह ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिलने के बाद ही मौत के कारणो का खुलाशा हो सकेगा।
मृतक का हाथ बांध कर जिस प्रकार से पानी में डूबा कर साक्ष्य को नष्ट करने का प्रयास हुआ है। इस घटना में एक से अधिक लोगो के संलिप्त होने से इनकार नही किया जा सकता है। मृतक के ग्रामीण और कोइली पंचायत के मुखिया अजय कुमार बतातें हैं कि शुक्रवार की शाम भराव बाजार पर रामधारी सहनी का किसी से विवाद हुआ था। पर, वह विवाद किससे और कयों हुआ था? इसका खुलाशा होना भी अभी बाकी है।
ऐसे हुआ घटनाक्रम
दरअसल, रामधारी सहनी शुक्रवार को छठ का प्रसाद लेकर साइकिल से मछुआ गांव स्थित अपनी पोती अंचला देवी के यहां गया। पोती को प्रसाद देने के बाद अपना साइकिल पोती के घर छोर कर यहां से वह अपने दामाद के भाइ के साथ बाइक से हथौड़ी थाना के बलुआहां गांव स्थित अपनी बेटी गुजरी देवी के घर गया और प्रसाद देकर दोपहर को ही बाइक से फिर मझुआ लौट आया। इसके बाद शुक्रवार की शाम करीब पौने 7 बजे में वह अपनी पोती के घर मछुआ गांव से अपने घर चैनपुर के लिए साइकिल से निकला था। बतातें चलें कि मछुआ से चैनपुर गांव की दूरी करीब डेढ़ किलो मीटर है। इस बीच एक प्रत्यक्षदर्शी ठागा राम के मुताबिक शाम सात बजे में उसे भराव बाजार से अपने घर की ओर जाते हुए अंतिम बार देखा गया था। किंतु, वह अपने घर नही पहुंचा। इसके बाद परिजनो ने उसकी खोजबीन शुरू कर दी। आज सुबह भराव बाजार के समीप के मन से उसकी लाश बरामद होते ही कई तरह के कयास लगने शुरू हो गयें है। फिलहाल, पुलिस पूरे मामले की जांच में जुट गई है।
चार रोज बाद मिला बच्चे का शव
सिवाइपट्टी थाना के रघई घाट से बूढ़ी गंडक में खरना के रोज लापता हुआ छह वर्षीय संजीव कुमार का शव चार रोज बाद शनिवार को मीनापुर थाना के बंकूल गांव के समीप बूढ़ी गंडक नदी से बरामद हो गया है। पुलिस ने लाश को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए एसकेएमसीएच भेज दिया है। बताया जा रहा है कि लाश पानी के उपर तैर रहा था, तभी कुछ स्थानीय लोगो की उस पर नजर पड़ी।
स्मरण रहें कि शुक्रवार को विधायक के पहल पर एनडीआरएफ की टीम ने बूढ़ी गंडक नदी में लाश को खोजने की पूरी कोशिश की थी। इससे पहले स्थानीय गोताखोरो ने भी लगातार लाश को तलाशने की कोशिश की। बतातें चलें कि संजीव खरना के रोज अपनी मां के साथ रघई घाट पर स्नान करने के दौरान गहरे पानी में लापता हो गया था।
दरियापुर के एक पोखर में मिला अधेड़ का शव
सिवाइपट्टी थाना के दरियापुर गांव स्थित एक पोखरी में शनिवार को एक अधेड़ का शव मिला है। उसकी पहचान 60 वर्षीय अनुज सहनी के रूप में हो गई है। वह तरियाना थाना के नरवारा गांव का रहने वाला है। थाना अध्यक्ष औरंगजेब आलम ने बताया कि अनुज सहनी घास काटने के दौरान पोखर में लुढ़क गया और उसकी मौत हो गई है। पुलिस ने यूडी केस दर्ज करके लाश को पोस्टमार्टम के लिए एसकेएमसीएच भेज दिया है।