अपने ही साथी की गोली से ही मारा गया शार्प शूटर

मोतिहारी। शार्प शूटर अभिषेक झा अपने ही साथियों की गोली से मारा गया। वह बिहार के कुख्यात संतोष झा गैंग का शार्प शूटर था। दरअसल, यह घटना भागने के क्रम में हुआ। उसे ढाका के एसडीजेएम कोर्ट में पेशी के लिये लाया गया था और पुलिस कस्टडी से भागने के दौरान वह अपने ही साथियों की गोली का शिकार हो गया।

रंगादारी के मामले में होनी थी पेशी
घटना सोमवार को दिन के लगभग साढ़े बारह बजे की है। कुख्यात अभिषेक शिवहर के श्यामपुर भटहां थाने के डुमरी का था। पूर्वी चंपारण के ढाका फुलवरिया घाट पर पुल बना रही कम्पनी से रंगदारी मामले में उसकी ढाका कोर्ट में पेशी होनी थी। अभिषेक फिलहाल शिवहर मंडल कारा में दरभंगा के दो इंजीनियरों की हत्या में उम्रकैद की सजा काट रहा था। शिवहर से उसे मुजफ्फरपुर सेंट्रल जेल ले जाया गया।
कोर्ट में पेशी से पहले भागने का कर रहा था प्रयास
पुलिस के अनुसार, मोतिहारी केन्द्रीय कारा से ढाका कोर्ट में पेशी के लिए आने के बाद अभिषेक ने शौच का बहाना किया। शौच के बाद अभिषेक जब बाहर आया तो कचहरी के मेन गेट पर हथकड़ी पकड़े हवलदार वशिष्ठ मुनि तिवारी की आंख में उसने मिर्ची पाउडर झोंक दी। इसके बाद हथकड़ी छुड़ाने की कोशिश करने लगा। तभी अभिषेक के दो साथी भी वहां पहुंच गए और उसको पुलिस की गिरफ्त से छुड़ाने का प्रयास करने लगे।
ऐसे लगी गोली
हवलदार ने जब हथकड़ी नहीं छोड़ी तो साथियों ने उस पर गोली चला दी। छीना-झपटी के चलते संयोगवश गोली हवलदार की जगह अभिषेक के पेट में लग गई। गोली लगते ही कैदी अभिषेक जमीन पर गिर गया। तब अभिषेक के साथियों ने वहां मौजूद एक अन्य सिपाही देवेन्द्र सिंह के सिर पर पिस्तौल की बट से वार किया। सिपाही का सिर फट गया। इस बीच अभिषेक को गोली लगने के बाद जमीन पर छटपटाते देख उसको भगाने आए दोनों साथी घबरा गए। उनको पकड़ने के लिए अन्य सिपाही जब तक मोर्चा संभालते दोनों भागने लगे। इस दौरान उनकी पिस्टल नीचे गिर पड़ी। पुलिस ने घटनास्थल से पिस्टल, तीन खोखे व तीन कारतूस बरामद किये हैं।

%d bloggers like this: