पंचायत सचिव को बाढ़ पीड़ितों ने बनाया बंधक

16 पंचायतों तक राहत पहुंचाने का बीडीओ ने किया दावा, कल सभी जगह पहुंचेगी राहत

मीनापुर में पिछले आठ रोज से बाढ़ में फंसे लोगों का गुस्सा अब भड़कने लगा है। शुक्रवार को कड़चौलिया के समीप बाढ़ पीड़ितो ने रानीखैरा पंचायत के पंचायत सचिव अशोक कुमार को बंधक बना लिया। यहां शिवहर सड़क पर रानीखैरा के करीब 150 परिवार पिछले एक सप्ताह से शरण ले रखे हैं। रमेश यादव सहित कई लोगों ने बताया है कि यहां अभी तक प्रशासन की ओर से राहत मुहैय्या नहीं कराने से लोगों में आक्रोश है।
दूसरी ओर राघोपुर पंचायत के बाढ़ पीड़ितो में प्रशासन के खिलाफ जबरदस्त आक्रोश है। इस पंचायत के तीन दर्जन से अधिक लोगों का कच्चा मकान गिरने के बाद अभी तक पीड़ित परिवारों तक राहत नहीं पहुंचा है। जिन लोगों का घर गिर गया है, उनमें विशनपुर कंठ के वार्ड सदस्य संतलाल सहनी और राघोपुर के मो. हुसैन व रामबाबू प्रसाद सहित 40 परिवार शामिल हैं। राघोपुर के मो. जहांगीर ने तत्काल राहत नही मिलने पर आंदोलन की चेतावनी दी है। इधर, बनुआ गांव में घर गिरने से गृह स्वामी 60 वर्षीय सीताराम राय की मलबे में दब कर मौत हो गई है।
दूसरी ओर मुकसूदपुर के वरुण सरकार ने बताया कि उनके पंचायत में अभी तक राहत नहीं पहुंचने से लोगों में आक्रोश है। राहत नहीं पहुंचने से पानापुर, जामिन मठियां, बाड़ाभारती, टेंगरारी, तुर्की पूर्वी, हरका मानशाही और मीनापुर पंचायत के लोगो में भी असंतोष भड़कने लगा है।
इस बीच बीडीओ संजय कुमार सिन्हा ने बताया कि शुक्रवार को 16 पंचायतों तक राहत सामग्री पहुंचा दी गई है। बाकी बचे पंचायतों तक शनिवार को राहत सामग्री पहुंचा दी जाएगी। बीडीओ ने शुक्रवार को धरमपुर, मुकसूदपुर, मझौलिया, मदारीपुर कर्ण व कोइली आदि पंचायतों का नौका से सर्वेक्षण करने के दौरान बताया कि मीनापुर के 27 पंचायतों के 75 स्थानों पर पका हुआ भोजन बाढ़ पीड़ितो को दिया जा रहा है। बीडीओ के साथ पूर्व जिला पार्षद मिथलेश यादव, सरपंच रतन राय, मुखिया मो. वारीश खान भी नौका पर मौजूद थे।