भारी बारिश से बिहार की नदियां उफनाई

मुजफ्फरपुर। पिछले 8 घंटे से नेपाल में रुक-रुक कर हो रही बारिश से उत्तर बिहार की नदियों का बढ़ना शुरू हो गया है। पिछले रात कोसी और गंडक का जलस्तर तेजी से बढ़ा। पहली बार कोसी और गंडक नदियों में एक लाख क्यूसेक से अधिक जलस्राव हो रहा है। उधर, बागमती और कमला-बलान का जलस्तर खतरे के निशान से ऊपर पहुंच गया। नेपाल में भारी बारिश की संभावना के बाद नदियों में और जलस्तर बढ़ने की आशंका है। हालांकि अन्य नदियों का जलस्तर अभी लाल निशान के नीचे है। जल संसाधन विभाग के अनुसार नेपाल के तराई के साथ उत्तर बिहार की नदियों के जलग्रहण क्षेत्रों में बारिश के बाद जलस्तर में तेजी से वृद्धि होने लगी है।
बागमती नदी का जलस्तर सीतामढ़ी के डुब्बाधार में खतरे के निशान से 22 सेंटीमीटर ऊपर चला गया है जबकि मुजफ्फरपुर में खतरे के निशान से महज चार सेंटीमीटर नीचे रह गया है। इसी तरह कमला बलान नदी मधुबनी के जयनगर में पांच सेंटीमीटर जबकि झंझारपुर में 10 सेंटीमीटर ऊपर बह रहा है। कोसी और गंडक नदी सोमवार को इस साल पहली बार एक लाख क्यूसेक को पार कर गयी। कोसी वराह में 71 हजार क्यूसेक पर थी जबकि वीरपुर बराज पर उसमें 1.07 लाख क्यूसेक पानी था। उधर, गंडक में तेजी से उफान आ रहा है। सुबह वाल्मीकिनगर बराज पर 95 हजार क्यूसेक पानी था जो देर शाम 1.14 लाख क्यूसेक पर पहुंच गया। नेपाल के तराई में देर रात तेज बारिश शुरू हो गई थी।

%d bloggers like this: