पत्नी की हत्या के मामले में टीवी एंकर दोषी

17 साल बाद एंकर सुहैब इलियासी को उम्रकैद

नई दिल्ली। देर से सही, पर एक बार फिर से न्याय की जीत हुई है। क्राइम बेस्ड टीवी रियलिटी शो इंडियाज मोस्ट वॉन्टेड के मशहूर एंकर सुहैब इलियासी को पत्नी की हत्या के मामले में कोर्ट ने उम्रकैद की सजा सुनाई है। हालांकि, इस फैसला सुनाने में कोर्ट को 17 साल का लम्बा वक्त लग गया। बहरहाल, दिल्ली की कड़कड़डूमा कोर्ट ने इलियासी को दोषी करार दिया गया है। बतादें कि 11 जनवरी 2000 को सुहैब के घर पर अंजू की संदिग्ध हालात में मौत हो गई थी। मर्डर करने के लिए कैंची का इस्तेमाल किया गया था। बाद में आरोप सुहैब पर ही लगा और उसे 28 मार्च 2000 को गिरफ्तार कर लिया गया था। कोर्ट ने इलियासी पर 2 लाख रुपये का जुर्माना और 10 लाख रुपये का मुआवजा भी लगाया है।

सुहैब के दावो पर ऐसे हुआ शक

सुहैब का दावा था कि अंजू ने सुसाइड किया था। मेडिकल रिपोर्ट और अंजू के पैरेंट्स के दहेज के लिए प्रताड़ित करने के आरोपों से सुहैब के दावे पर भरोसा किया गया। बाद में अंजू की बहन रश्मि कनाडा से लौटी तो उसके बयान से यह केस पलट गया। अंजू ने रश्मि को सुहैब की हरकतों के बारे में बताया था। रश्मि ने पुलिस को अंजू की एक डायरी सौंपी, इसके बाद शक की सुई पूरी तरह सुहैब पर घूम गई।

दहेज प्रताड़ना का केस हत्या में हुआ तब्दिल

सुहैब को पुलिस ने पत्नी को दहेज के लिए प्रताड़ित करने के आरोप में पहले गिरफ्तार किया था। कहा जा रहा था कि उसने इसी वजह से खुदकुशी की होगी। हालांकि, 2014 में दिल्ली हाईकोर्ट ने अंजू की मां और बहन की पेटीशन पर ट्रायल कोर्ट को ऑर्डर दिया कि इसे हत्या के मामले के तौर पर भी देखे। इस बीच रश्मि के द्वारा उपलब्ध कराई गई डायरी और अन्य कई साक्ष्यो के आधार पर पुलिस ने इसे हत्या का मामला मानते हुए अनुसंधान को आगे बढ़ाया।

अंजू के घरवालों का आरोप

पुलिस की जांच में पाया गया कि सुहैब और अंजू के बीच दहेज को लेकर अक्सर झगड़ा होता था। पत्नी की हत्या के बाद सुहैब ने अंजू की फ्रेंड को फोन करके बताया था कि उसने सुसाइड कर लिया है। बाद में अंजू के परिवारवालों ने सुहैब पर ही दहेज के लिए प्रताड़ित करने और हत्या करने का आरोप लगाया था।

सुहैब और अंजू की कॉलेज में हुई थी मुलाकात

सुहैब का जन्म 15 नवंबर 1966 को दिल्ली में हुआ। उसके पिता जमील इलियासी ऑल इंडिया इमाम संगठन के प्रमुख और केंद्रीय दिल्ली के कस्तुरबा गांधी मस्जिद के इमाम थे। सुहैब ने जामिया मिल्लिया इस्लामिया से जर्नलिज्म की पढ़ाई की। यहीं उसकी मुलाकात अंजू से हुई। बाद में दोनों ने लव मैरिज कर लिया था।

लंदन में कर चुका है प्रोग्राम प्रोड्यूसर का काम

पढ़ाई के बाद सुहैब और अंजू लंदन चले गए। वहां उसने टीवी एशिया में काम किया। वो इस चैनल का प्रोग्राम प्रोड्यूसर भी रहा। वर्ष 1996 में सुहैब भारत आया और एक क्राइम बेस्ड रिएलिटी शो पर उसने काम शुरू किया। यह तैयार हुआ तो इसे नाम दिया गया- ‘इंडियाज मोस्ट वॉन्टेड।’ बहुत जल्द यह देश का सबसे पॉपुलर टीवी प्रोग्राम बन गया।

शो से हुआ था कई राज का खुलाशा

इंडियाज मोस्ट वॉन्टेड शो भगौड़े अपराधियों पर बेस्ड था। इसके एपीसोड रिसर्च के साथ तैयार किए जाते थे। इसमें इतने पुख्ता सबूत जुटाए जाते थे ताकि पुलिस के लिए भी मददगार साबित हो सके। शुरू में सिर्फ 30 अपराधियों पर इस शो के 52 एपीसोड तैयार किए गए थे, लेकिन यह इतना पॉपुलर हुआ कि इसे आगे बढ़ा दिया गया था। सुहैब ने 498A नाम से फिल्म भी बनाई थी। यह दहेज प्रताड़ना पर ही बनी फिल्म थी। यह 2012 में रिलीज हुई थी।

पत्नी की मौत के बाद कर ली दूसरी शादी

अंजू की मौत के बाद सुहैब ने साहेबजादी सौम्या खान से शादी कर ली थी। उनकी एक बेटी है, जिसका नाम आलिया है। फिलहाल, कोर्ट के इस फैसले को लेकर बुद्धीजीवियो के बीच चर्चा का बाजार गर्म है।