बिहार में मौसम ने बदली करबट, आंधी, बारिश ओलावृष्टि

बिहार। मौसम ने पिछले दो रोज से अचानक करबट बदल ली है। नतीजा, पटना सहित सूबे में आंधी-पानी और ओलावृष्टि से भारी नुकसान हुआ है।

पूर्वी चंपारण के संग्रामपुर और मुजफ्फरपुर के साहेबगंज में आंधी के दौरान दीवार गिरने से दो लोगों की मौत हो गयी जबकि गोपालगंज के भोरे में पेड़ गिरने से तीन लोगों की जान चली गई। तेज हवाओं ने राज्य भर में जनजीवन पर असर डाला है। पटना, गया, मुजफ्फरपुर, भागलपुर व अन्य शहरों के तापमान में भारी गिरावट दर्ज की गई है। पटना में रात पौने दस बजे 20 मिनट तक ओलावृष्टि होने से पिछले तीन दिनों से गर्मी झेल रहे लोगों को राहत मिली। मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार, अगले दो-तीन दिनों तक ऐसी स्थिति बनी रहने का अनुमान है।
बतातें चलें कि नेपाल सीमा से सटे प.चम्पारण से शुरू हुई बारिश और ओलावृष्टि ने पू.चम्पारण, सीतामढ़ी, मधुबनी होते हुए दरभंगा तक तबाही मचाई। किसानों के अनुसार एक किलोग्राम तक के ओले गिरे, जिससे उत्तर बिहार में करीब एक दर्जन से अधिक लोग घायल हो गए। मुजफ्फरपुर सहित अन्य जगहों पर आम व लीची के मंजर और टिकोलों के अलावा गेहूं, सरसों, मक्का व तंबाकू की फसल को भारी क्षति हुई है। दर्जनों लोगों के घर आंधी-पानी में ढह गए। किशनगंज में दिन में आधा घंटा तक ओलावृष्टि हुई।

%d bloggers like this: