सामाजिक कुरीतियों को दूर करने में मातृशक्ति की भूमिका अहम

“प्लेस्टोर से KKN Live का न्यूज एप डाउनलोड कर लें और देश की दुनिया की खबरो से अपडेट रहें…”

मुजफ्फरपुर। बिहार के खाद्द आपूर्ति मंत्री मदन सहनी ने मीनापुर के मंगेया में एक सभा को संबोधित करते हुए कहा कि सरकार महिला सशक्तीकरण के क्षेत्र में बेहतर काम कर रही है।

किंतु, समाजिक कुरीतियों को दूर करने में महिलाओं को भी आगे बढ़ कर काम करना होगा। मीनापुर के मंगेया धरमपुर चौक पर सोमवार को समाज सुधार वाहिनी की ओर से आयोजित सभा को संबोधित करते हुए खाद्य आपूर्ति मंत्री मदन सहनी ने शराबबंदी, बाल विवाह व दहेज प्रथा को समाप्त करने के लिए महिलाओं को आगे निकल कर काम करने का अह्वान किया है। मंत्री ने भ्रूणहत्या व ट्रैफिकिंग को समाज के लिए कलंक बताते हुए कहा कि यह सभी कुछ सूबे के महिलाओं की मांग पर ही सरकार ने लागू किया है।
इससे पहले मंत्री के सभास्थल पर पहुंचने पर पूर्व जिला पार्षद मिथिलेश यादव ने उन्हें अंगवस्त्र देकर सम्मानित किया है। सभा की अध्यक्षता जिला पार्षद वीणा यादव ने की और संचालन शकुंतला गुप्ता ने किया। इस मौके पर जदयू के जिला अध्यक्ष हरिओम कुशवाहा, जानकी श्रीवास्तव, रंजीत सहनी, सविता जयसवाल, नीलम देवी, रतन राय, शिवशंकर सिंह, शंकर यादव, तेजनारायण सहनी व नवल यादव, संजीत कुमार सिंह आदि मौजूद थे।
गांव के युवाओं को स्वरोजगार से जोड़ना होगा
मीनापुर के नकनेमा चौक पर बिहार के खाद्य उपभोक्ता व संरक्षण मंत्री मदन सहनी ने एक फूड इंडस्ट्रीज का उद्घाटन किया। इस मौके पर आयोजित समारोह को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि सुदूर देहाती क्षेत्र में इंडस्ट्रीज का निर्माण, यह साबित करता है कि बिहार में विकास की गति तेज है और बिहार की सरकार बैंक से ऋण दिलवाकर युवाओं को आगे बढ़ाने व रोजगार को बढ़ावा देने के अपने वादों पर खड़ी उतर रही है। उन्होंने ने कहा कि जब राज्य के युवा आत्म निर्भर होंगे तभी राज्य में कानून का राज स्थापित हो सकेगा।
सभा की अध्यक्षता व संचालन पंकज किशोर पप्पू ने किया। इस मौके पर पूर्व मंत्री दिनेश प्रसाद, जदयू के जिलाध्यक्ष हरिओम कुशवाहा, रालोसपा के जिलाध्यक्ष प्रभु कुशवाहा, भाजपा नेता अजय कुशवाहा, रंजीत सहनी, अमरनाथ चन्द्रवंशी, तेज नारायण सहनी, विनय पटेल, कुमारेश्वर, चंद्रबली सहनी, रंजीता कुशवाहा, लाल बाबू प्रसाद, रामसेवक राम तुविद, अशोक प्रसाद, जिया उद्दिन अंसारी, मुन्ना कुमार, अमरनाथ कुमार, मदन शर्मा, राम औतार सहनी, राज कुमार साह व नीरज कुमार आदि ने अपने विचार रखे।

%d bloggers like this: