रैयतों के पक्ष में थे कई अंग्रेज अधिकारी 

राजकिशोर प्रसाद बंगाल के बाद बिहार चंपारण में भी रैयतों ने नील विद्रोह शुरू कर दिया। इस बढ़ते विद्रोह के पक्ष में कई अंग्रेज अधिकारी थे। 1857 की क्रांति को दबाने से अंग्रेजो के मंसूबे […]

लामा को लेकर लामबंदी

चीन ने दी भारत को घुड़की कश्मीर पर दखल की धमकी नई दिल्ली। चीन की सरकारी मीडिया ने गुरुवार को भारत को घुड़की देते हुए लिखा कि चीन कश्मीर मसले पर दखल दे सकता है। […]

भारत को एनएसजी की सदस्यता मिलने की उम्मीदें बढ़ी

चीन के पुरजोर बिरोध के बावजूद भारत को एनएसजी की सदस्यता मिलने की उम्मीदें बढ़ी है। इस मुद्दे पर जर्मनी ने भारत को अपना समर्थन दिया है। मीडिया में आई खबरों के मुताबिक एनएसजी परामर्श […]

यूपी में किसानो को मिली राहत

यूपी। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में हुई पहली कैबिनेट बैठक में आज कई अहम निर्णय लिए गये। बैठक डेढ़ घंटे चली। उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य के दो करोड से अधिक […]

राजनितिक दल कही कालाधन का स्त्रोत तो नही 

राजकिशोर प्रसाद आज के परिवेश में देश के सभी रजनीतिक दल कालाधन और भरष्टाचार पर कोहराम मचा रहें हैं। सभी कालेधन को बाहर करने और भ्रष्टाचार पर लगाम की खूब बखान करते हैं। किन्तु, इसके […]

भारत ने चीन को चेताया: अरूणाचल में दखल बर्दाश्त नही

नई दिल्ली।  चीन के बड़बोलेपन के खिलाफ अब भारत सरकार ने भी अपने तेवर कड़े कर दियें हैं। कहा कि अरूणाचल प्रदेश भारत का अभिन्न हिस्सा है और इसको लेकर चीन, बयानबाजी बंद करे। दरअसल, […]

यूपी में आज हो सकता है किसानो के कर्ज माफी का फैसला

उत्तर प्रदेश।  लम्बी इंतजार के बाद यूपी में आदित्यनाथ योगी सरकार के मंत्रिमंडल की पहली बैठक आज शाम होगी। इस बैठक पर सभी की नजरें टिकी है। विशेष कर किसानो की। जानकार मानतें हैं कि […]

मोदी के रथ को रोकना है तो बनाने होंगे महागठबंधन

पटना।  जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष व बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जोर देकर कहा कि यदि पीएम मोदी के रथ को रोकना है तो देश में विपक्षियों को एकजुट होना पड़ेगा। कहा कि देश […]

उपद्रवियों ने काटे जम कर बवाल बेबस दिखी पुलिस

बोधगया बिहार का बोधगया पुलिस और पब्लिक के बीच संघर्ष का गवाह बन गया। शनिवार को करीब पांच घंटे तक पुलिस के अधिकारी उपद्रवियों के आगे बेबस बनी रही। इस दौरान उपद्रवियों ने कई पुलिस […]

टूटी कुर्सी, कहीं विचारधाराओं में बदलाव का संकेत तो नही?

कौशलेन्द्र झा मुजपफ्फरपुर। विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र का दंभ भरने वाले, हम भारतवंशियों को आखिर ऐसा क्या हो गया है? क्यों हम अपने ही आचरणों से अपना ही जगहसाई होने के बावजूद गौरवान्वित महसूस […]