सिविल कोर्ट के चपरासी की बेटी बनी सिविल जज

भागलपुर। कहतें हैं कि मन में हौसले का उड़ान हो, तो मुश्किल काम भी आसान हो जाता है। भागलपुर सिविल कोर्ट में कार्यरत चतुर्थवर्गीय कर्मचारी जगदीश साह की पुत्री जूली कुमारी ने इस कहावत को चरितार्थ कर दिखाया है। जूली ने 29 वीं बिहार न्यायिक सेवा परीक्षा में सफलता पाकर सिविल जज बन गई हैं। बरारी के मायागंज मोहल्ले में पली-बढ़ी जूली की दृढ़ इच्छाशक्ति ने उन्हें सफलता दिलाई है। जूली ने कहा कि गवर्नमेंट हाई स्कूल से 2004 में मैट्रिक परीक्षा पास करने के बाद झुनझुनवाला कॉलेज से वर्ष 2006 में आईकॉम की परीक्षा पास की। उसके बाद टीएनबी लॉ कॉलेज में लॉ की पढ़ाई शुरू की।
वर्ष 2011 में लॉ की परीक्षा पास करने के बाद बिहार न्यायिक सेवा की परीक्षा की तैयारी में लग गई। इसी बीच वर्ष 2009 में कजरैली के केलापुर गांव में सुबल कुमार से उसकी शादी हुई। जूली के पति दिल्ली में प्राइवेट नौकरी करते हैं। साधारण परिवार में जन्मी जूली को पढ़ाई से बहुत लगाव था और सफलता पाने तक पीछे मुड़कर नहीं देखी।
जूली ने पहले ही चांस में न्यायिक सेवा परीक्षा में पास की है। इसी साल 24 से 28 मार्च के बीच न्यायिक सेवा की परीक्षा हुई थी। सफलता पाने को लेकर वह आश्वस्त थी और रिजल्ट का इंतजार कर रही थी। जूली ने कहा कि कड़ी मेहनत व लगन के साथ बड़ों के आशीर्वाद से यह सफलता मिली है।