मीनापुर में एक ही परिवार के पांच लोग डूबे, तीन बच्चे की मौत

नदी में स्नान करने के दौरान हुई हादसा

KKN लाइव न्यूज ब्यूरो। बिहार के मुजफ्फरपुर जिला अन्तर्गत सिवाईपट्टी थाना के शीतलपट्टी गांव में मंगलवार को बागमती की उपधारा में नहाने गई एक मां अपने चार बच्चों के साथ डूब गई। हालांकि ग्रामीणो ने मां और उसके एक बच्ची को लोगों ने बचा लिया है। किंतु, महिला के दो पुत्र और एक पुत्री की डूबने से मौत हो गई। काफी मशक्कत के बाद देर शाम को ग्रामीणो ने तीनों बच्चों के शव को पानी से निकाल लिया है। पुलिस ने तीनो शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए एसकेएमसीएच भेज दिया है।

बच्चो के शव पर विलाप करती मां

एक ही परिवार के थे तीनो बच्चे

इस बीच डूबे बच्चों की पहचान शीतलपट्टी गांव के शत्रुघ्न राम के पुत्र 3 महीनाा का अर्जुन, 10 वर्ष का  राजा व 12 वर्ष की  पुत्री ज्योति के रूप में हुई है। जबकि शत्रुघ्न राम की पत्नी रीना देवी और उसकी एक अन्य पुत्री 8 वर्ष की  राधा को लोगों ने पहले ही बचा लिया था। घटना के बाद से रीना व उसके परिजन का रो-रोकर बुरा हाल है। वहीं घटना की सूचना मिलते ही सीओ के नेतृत्व में सिवाईपट्टी पुलिस मौके पर पहुंच कर बच्चो के शव को अपने कब्जे में ले लिया है। सीओ ने ज्ञान प्रकाश श्रीवास्तव ने बताया कि मुआवजा के लिए उच्चाधिकारी से निर्देश मांगा गया है। एक साथ तीन भाई-बहनों के डूबने की घटना से गांव में मातम पसरा है। घटनास्थल पर काफी देर तक लोगों की भीड़ जुटी रही।

 

इस तरह से हुई घटना

 

घटना मंगलवार दोपहर करीब 12 बजे की है। शीतलपट्टी गांव की रीना देवी अपने चार बच्चों के साथ बागमती की पुरानी धारा में स्नान करने गई थी। नदी के किनारे वह कपड़ा धोने लगी। इस बीच तीन महीने का उसका सबसे छोटा पुत्र नदी में लुढ़क गया। बेटे को बचाने के लिए रीना गहरे पानी में उतर गई और डूबने लगी। मां को डूबते देख उसके बाकी के तीन बच्चे राज कुमार, ज्योति कुमारी और राधा कुमारी भी नदी में उतर गये और सभी गहरे पानी में चले गए। स्थानीय पैक्स अध्यक्ष रमेश यादव ने बताया कि नदी के दूसरे किनारे पर स्नान करने आए लोगों ने सभी को डूबते देख शोर मचाया। आवाज सुनकर पहुंचे ग्रामीणों ने रीना और उसकी आठ वर्ष की बेटी राधा कुमारी को पानी से बाहर निकाल लिया। लेकिन बाकी तीन बच्चे डूब गए। घंटों मशक्कत के बाद लोगों ने तीनों के शव को खोज निकाला।

शव का पंचनामा करती पुलिस

हादसा या आत्महत्या

गांव के कई लोगो ने नाम नहीं उजागर करने की शर्त पर बताया कि आज सुबह महिला का अपने पति के साथ फोन पर विवाद हुआ था। बतातें चलें कि महिला के पति शत्रुघ्न राम पंजाब में रह कर मजदूरी करतें हैं। लोगो का कहना है कि फोन पर हुई विवाद के बाद महिला अपने चारो बच्चो के साथ खुद भी बागतती की पुरानीधारा में छलांग लगा कर आत्महत्या करना चाहती थीं। हालांकि, लोगो ने उसे नदी में छलांग लगाते देख तत्काल ही महिला और उसके एक बच्ची को तो बचा लिया। किंतु, उसके दो पुत्र और एक पुत्री को बचाया नहीं जा सका है। सीओ ज्ञान प्रकाश श्रीवास्तव ने भी ग्रामीणो के हावाले से इस चर्चा की पुष्टि की है। फिलहाल, इस बात से पर्दा उठना अभी बाकी है कि यह एक हादसा है या आत्महत्या करने की कोशिश है?